जज्बा और जुनून का केंद्र : लक्ष्य सेना भर्ती ट्रेनिंग सेंटर

अगर आप में जोश, जज्बा और जुनून है, तो ऐसे हीरे को तराशने का काम वैशाली जिला से 45 किलोमीटर दूर महनार अनुमंडल के एक छोटे से मोहल्ले में एक केंद्र पर की जाती है। यह केंद्र सेना से रिटायर्ड जवान मुकेश कुमार पिता बिंदा राय द्वारा संचालित है। इस केंद्र पर राज्य भर के विभिन्न जिलों से लगभग 5 दर्जन छात्र-छात्राएं सेना, पुलिस, दरोगा और केंद्रीय दरोगा आदि की परीक्षा में शारीरिक दक्षता प्राप्त करने के लिए इस छोटे से जगह पर आते हैं। यह केंद्र लगभग 14001 sqft में फैला हुआ है।

इस केंद्र पर वर्तमान में वैशाली जिले के अलावा मुजफ्फरपुर पूर्वी चंपारण पश्चिमी चंपारण समस्तीपुर बेगूसराय आदि जिले के छात्र-छात्राएं शामिल हैं। मैट्रिक की परीक्षा के बाद मुकेश कुमार सेना में भर्ती होने चले गए यह वह दौर था। जब मुकेश कुमार का परिवार संघर्ष में था। मुकेश परिवार मे पहले व्यक्ति थे जो, सरकारी सेवा में गए उन्हें गरीबी का दंश और मार पता थी। वह नौकरी करने के साथ परिवार के सपने और घर की नीवं को भी मजबूत करने का संकल्प ले रखा था। भाई को उच्च शिक्षण के साथ नौकरी दिलाना जरूरी हो गया था क्योंकि परिवार चलाने के लिए दो चक्के का मजबूत होना जरुरी था।

मुकेश जब सेना से रिटायर्ड होकर लौटे तब मन में ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं और बेरोजगारों के लिए कुछ करने का सपना देखा कई बेरोजगार युवकों को सेना के प्रति भावना जगाई सेना में भर्ती होने के लिए जहां शारीरिक दक्षता में छात्र फेल हो जाते थे। उसी कमजोरी को उन्होंने मजबूत करने के लिए लक्ष्य सेना भर्ती ट्रेनिंग सेंटर की स्थापना की। यह केंद्र जुलाई 2017 में तत्कालीन खेल मंत्री शिवचंद्र राम द्वारा उद्घाटन किया गया।

बीते 1 साल में लगभग दर्जनों युवकों को नौकरी मिली कैंपस के भीतर जोश और जज्बा ही नहीं अनुशासन और शालिनता का पाठ भी पढ़ाया जाता है। लड़के और लड़कियों के रहने के लिए भी व्यवस्था है मुकेश बताते हैं कि दादाजी बांके राय जो एक संघर्षशील किसान थे उनका सपना था समाज में अपनी एक अमिट छाप छोड़नी है। जब मैं नौकरी में गया था उस समय ही परण कर लिया था की लौट कर आऊंगा और दादाजी बांके राय सपनों को पूरा करूंगा। उन्हीं के नाम पर बांके राय शिक्षण सेवा संस्थान की स्थापना की।

आगे की योजना है सेना ही नहीं अन्य परीक्षाओं के लिए भी तैयारी शुरू करवाई जाएगी। इन सब में मार्गदर्शक के रूप में तत्कालीन डीएसएलआर ललित कुमार सिंह ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अभी हाल ही मे मुकेश को सामाजिक सेवा मे उल्लेखनिय योगदान के लिए जिले का सद्भावना सम्मान- 2018 वैशाली मीडिया द्वारा सद्भावना खेल महोत्सव मे एसएसबी के सहायक सेनानायक रामभवन के हाथो सम्मानित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *