कटिहार में शिक्षा का अलख जगाता एक सरदार की असरदार पहल

कटिहार में शिक्षा का अलख जगाता एक सरदार की असरदार पहल। अपने दम पर अजीत सिंह उर्फ़ बग्गा लगभग ढाई सौ बच्चों में शिक्षा का लौ जला रहे हैं। कटिहार बरारी के ”शिक्षा के सारथी ”बने अजीत सिंह की नायाब पहल। अपने दम पर खपरेल की इस झोपडी से बिहार के शिक्षा व्यवस्था में अपनी अक्षर ज्ञान की आहुति देकर इसे बेहतर करने की पहल करते ये अजीत सिंह उर्फ़ बग्गा है।

अजीत ने कभी अपने शिक्षा के बल पर समाज में बड़ी पहचान बनाने का सपना देखा था। लेकिन गरीबी और शारीरिक रूप से दिव्यांग होने के कारण वो सपना पूरा नहीं हो पाया था। फिर स्नातक शिक्षा संपन्न करने के बाद अजीत ने ग्रामीण बच्चों में मुफ्त शिक्षा बांटकर ये सपना पूरा करने की ठान ली। फिर किया था बरारी के इस खपरेल के झोंपड़ी से ही शुरू हो गई। शिक्षा की अलख जगाने की कोशिश जो बीस साल से यूं ही जारी है। यहां की मुफ्त शिक्षा ले चुके कई बच्चे अब डॉक्टर। इंजीनियरिंग के साथ साथ बड़े पढ़ाई की रूख कर चुके हैं। आज भी बच्चे यहां की पढ़ाई से बेहद संतुष्ट हैं। वहीं लगभग ढाई सौ बच्चों में शिक्षा की ज्योत जगाकर सरदार बेहद संतुष्ट हैं।

 

ग्रामीण बुद्धिजीवी वर्ग के लोग भी अजीत के इस पहल की सराहना करते हुए कहते हैं की एक तरफ ग्ररीबी और ग्रामीण माहोल की शिक्षा व्यवस्था अब भी दुरुस्त के कारण यहां की बच्चों के शिक्षा पर संकट बना हुआ था। मगर जिस तरह से बग्गा ने अपने दम पर बरारी के इस सुदूर इलाके की शिक्षा व्यवस्था बेहतर करने की कोशिश की सरकार को ऐसे पहल करने वालों को भी मदद करनी चाहिए। निश्चित तौर पर प्रारम्भिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा पर जिस तरह से बाज़ारवाद हॉबी हो रहा है। ऐसे में कोई शख्स अगर अपने दम पर ”शिक्षा के सारथी” बनकर समाज से अशिक्षा का अंधेरा दूर करने की कोशिश करें तो समाज को भी ऐसे पहल की सहयोग और सराहना तो कम से कम करनी ही चाहिए।

रिपोर्टर-सुमन शर्मा, कटिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *