देशद्रोह मामले में चार्जशीट को कन्हैया कुमार ने बताया केन्द्र सरकार का चुनावी स्टंट

एक तरफ जहां दिल्ली पुलिस जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया सहित 10 लोगों पर चार्जशीट करने की तैयारी कर रही है। वहीं कन्हैया कुमार ने इसे सरकार का चुनावी स्टंट बताया है। चार्जशीट मामले में कन्हैया ने मोदी सरकार को धन्यवाद देते हुए अपील की है कि चार्जशीट ही नहीं बल्कि स्पीडी ट्रायल के तहत इस मामले को न्यायालय में चलाया जाए।

कन्हैया ने बेगूसराय में कहा कि वर्तमान सरकार के पास कोई मुद्दा ही नहीं बचा है इसलिए वो ऐसे मामले को तूल दे रही है। केंद्र सरकार सिर्फ पाकिस्तान, मंदिर और हिंदू-मुसलमान की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह डिप्रेशन के दौर में आ गई है और दोबारा सत्ता पाने के लिए वह किसी भी हद से गुजरने को तैयार हैं। इस मौके पर कन्हैया ने कहा कि मैं लोगों से अपील करता हूं कि लोग सरकार पर दबिश बना कर रहे और आने वाले चुनाव में सरकार को सबक सिखाने का काम करें।

मालूम हो कि देश के प्रतिष्ठित जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य समेत 10 छात्रों के खिलाफ देशद्रोह के मामले में दिल्ली पुलिस आज पटियाला हाउस कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल करने वाली है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के मुताबिक, गवाहों के बयानों के बाद देशद्रोह का ये मामला दर्ज किया गया है। वहीं उमर खालिद के खिलाफ धोखाधड़ी का भी मामला दर्ज किया गया है। इनके अलावा 36 लोग ऐसे थे, जिन्हें जांच के दायरे में रखा गया था। इनमें यूनिवर्सिटी के छात्र और सुरक्षाकर्मी शामिल थे, हालांकि उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला।

बता दें कि संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी पर लटकाए जाने के विरोध में वर्ष 2016 में जेएनयू कैंपस में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जेएनयू के इस विवादस्पद कार्यक्रम से लोगों में नाराजगी फैली थी। आरोप लगे थे कि कार्यक्रम के दौरान कथित रूप से देश विरोधी नारे लगाए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *